प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांचवीं बार लालकिले की प्राची से 72वी स्वतंत्रता दिवस का झंडा फरकाया

भारत देश आज 72वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांचवीं बार लालकिले से देश को संबोधित किया । इस बार भी मोदी ने अपने भाषण के लिए लोगों से सुझाव मांगे थे। उन्हें करीब 30 हजार से ज्यादा सुझाव मिले। लोगों ने उनसे रोजगार के अवसर पैदा करने और स्वास्थ्य सेवाओं के मुद्दे पर राय रखने को कहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषण मे देश के लगभग सभी का अभिनंदन किया । सवा सौ करोड़ भारतीयों की टीम है इंडिया। सवा सौ करोड़ देशवासी सपने निर्धारित लक्ष्य की ओर बढ़ें।दुनिया में हिन्दुस्तान की दमक हो, ऐसा हिन्दुस्तान चाहते हैं।संविधान हमारा मार्गदर्शन करता है।तिरंगे की शान के लिए जवान प्राणों की आहुति दी। आजादी के वीर सेनानियों को नमन करता हूं। देश की आजादी के लिए बापू ने जीवन खपा दिया।देश आज नई ऊंचाईयों को पार कर रहा है। आज का सूर्योदय नए उत्साह को लेकर कर आया है। हमारे देश में 12 साल में एक बार नीलकुरिंज का पुष्प खिलता है, इस साल ये पुष्प तिरंगे के अशोक चक्र की तरह खिल रहा है।देश के कई राज्यों की बेटियों ने सात समंदर को पार किया और सभी को तिरंगे से रंग दिया।प्रधानमंत्री मोदी ने लालकिले से पूरे देश को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश आक्मविश्वास से भरा हुआ है। उन्होंने कहा कि संकल्प से सपने पूरे होंगे।

और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि  मैं देश के लिए बेसब्र, बैचेन, व्याकुल, आतुर, अधीर हूं। हर भारतीय के पास घर, बिजली, गैस, जल, शौचालय, कुशलता, सस्ती और अच्छी स्वाथ्य, सुरक्षा, इंटरनेट मिले मैं उन संकल्पों को दोहाराना चाहता हूं। हमारा मंत्र रहा है ‘सबका साथ सबका विकास’ वाजपेयजी ने इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत का रास्ता दिखाया था। हम कश्मीर में गाली और गोली की रास्ते नहीं बल्कि गले लगाकर आगे बढ़ना चाहते हैं।अभी भी कुछ लोग जो इसे पारित नहीं होने दे रहे हैं। तीन तलाक ने मुस्लिम बेटियों की जिंदगी तबाह की। मुस्लिम बेटियों की न्याय में कुछ भी कमी नहीं रखूंगा।बलात्कार की राक्षसी विकृत्ति पर प्रहार करने की आवश्यकता है। कई राज्यों में इन मामलों तेजी से फांसी की सजा सुनाई गई।भारतीय सेना में शॉर्ट सर्विस कमिशन में पुरुष अधिकारियों की महिला अधिकारियों स्थाई सर्विस मिलेगी।भारत में पहली बार कैबिनेट जिसमें सर्वाधिक महिलाएं। आजादी के बाद भारत में पहली बार सुप्रीम कोर्ट में तीन जज बैठी हुई हैं।3 लाख फर्जी कंपनियों पर ताले लग चुके हैं। देश में ईमानदारी का उत्सव चल रहा है।इन डायरेक्ट टैक्स भरने वालों का आंकड़ा जीएसटी आने के बाद 1 करोड़ 16 लाख पहुंच गया। 70 साल में यह आंकड़ा 70 लाख था। आज यह संख्या दुगनी होकर कर पौने सात करोड़ हो गई, 2013 तक डायरेक्ट टैक्स देने वालों की संख्या 4 करोड़ लोग थे। ईमानदार करदाता की टैक्स से तीन गरीब परिवार खाना खाते हैं।मेरे देश के इमानदार करदाताओं को नमन। इमानदार करदाताओं को योजनाओं की पुण्याई मिलती है।सरकार ने 90 करोड़ रुपए गलत लोगों के हाथों में जाने से बचाए। 90 हजार करोड़ रुपए गलत लोगों के हाथ में जाते थे, आज देश की भलाई में काम आते हैं। योजनाओं का मख्खन बिचौलिए खा जाते हैं। योजनाओं में 6 करोड़ फर्जी लोगों के नाम सरकार ने पकड़े।‍पूरे यूरोप की जनसंख्या के बराबर भारत में आयुष्मान योजना से लाभा‍न्वित होगा।पिछले चार साल में गरीबों को सशक्त किया। अंतरराष्ट्रीय संस्था ने बताया पिछले दो साल में 5 करोड़ लोग गरीबी रेखा से बाहर आएं हैं।25 सितंबर को पूरे देश में प्रधानमंत्री जन आरोग्य लांच किया जाएगा।टेक्नोलॉजी से यह योजना चलेगी, ताकि पारदर्शिता रहेगी। गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना अभियान शुरू किया। 10 करोड़ परिवारों को लाभ मिलेगा। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर स्वच्छाग्रही महात्मा गांधी को कार्यांजलि समर्पित करेंगे।2014 में जब स्वच्छता की बात की थी मखौल उड़ाया गया था डब्ल्यूएचओ कह रहा है कि भारत में तीन लाख बच्चों की जिंदगी बची।उज्जवला योजना से गरीब के घर में गैस पहुंचाने का काम किया, सौभाग्य योजना बेटियों के लिए है। खादी से बापू का नाम जुड़ा, खादी की बिक्री दुगुनी हुई है, गरीबों के घर में रोजी रोटी पहुंची है।‍गन्ना किसानों की आय दुगुना हो चुका है।हमारा देश मछली उत्पादन में दूसरे नंबर पर पहुंच चुका है। हमारा सारा ध्यान कृषि में आधुनिकता लाता है। कृषि में हम नए दायरों को खोलना चाहता है।हम पत्थर पर लकीर बनाएंगे। मख्खन पर लकीर तो हर कोई कर लेता है हम पत्थर पर लकीर करेंगे। आजादी के 70 साल तक देश में किसानों की आय को दुगुना करने का लक्ष्य। देश के किसानों, मजदूरों को, कृषि के क्षेत्र में काम करने वाले वैज्ञानिकों को बधाई। किसानों को भी वैश्विक चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। कृषि को वैज्ञानिक, आधुनिक बनाना समय की मांग है।देशवासियों को खुशखबरी सुनाना चाहता हूं। हमारे सपना देखा है कि 2022 आजादी के 75 साल होंगे या उससे पहले मां भारत कोई बेटा-बेटी हाथ में तिरंगा लेकर अंतरिक्ष में जाएंगे। हम मानवरहित मंगलयान हिन्दुस्तानी लेकर जाएगा। हम विश्व में चौथे देश बन जाएंगे।मुद्रा लोन के तहत 4 करोड़ लोगों ने पहली बार लोन दिया, उन्हें पहली बार स्वरोजगार मिला। 13 करोड़ लोन बहुत बड़ी बात। आज नॉर्थ- ईस्ट के आखिरी गांव से आवाज आ रही है आखिरी गांव में बिजली पहुंच गई है।वन रैंक, वन पेंशन की जिम्मेदारी हमने पूरी की।हमने हिम्मत से फैसला लिया और किसानों को फसल का डेढ़ गुना लाभ दिया।दुनिया हिन्दुस्तान की बात सुनती है। भारत को विश्व की संस्थाओं में स्थान मिला। दुनिया भारत के लिए कह रही है आज सोया हुआ हाथी अब जग चुका है चल चुका है, दौड़ चुका है।हम कड़े फैसले लेने की हिम्मत रखते हैं।पहले रेप टेप की बात होती थी, आज रेड कार्पेट की बात होती है।कुछ करने की हिम्मत हो तो बेनामी कानून लागू होता है।अगर शौचालय बनाने में 2013 की रफ्तार से चलते तो शायद तो कितने दशक बीत जाते। अगर हम गांव में बिजली पहुंचाने की बात करें, तो 2013 के आधार के आधार पर सोचें, तो एक दो दशक और लग जाते। अगर 2013 की रफ्तार से ऑप्टिकल फाइबर लगाने का काम करते तो गांवों में पहुंचाने में पीढ़ियां निकल जातीं।आज देश में देशवासी नया देश बनाने में जुटे हैं। हमें ये देखना होगा कि हम कहां से चले थे और कहां पर पहुंचे थे ये हमें देखना होगा। अगर हम 2013 को इसका आधार मानें और अगर 2014 के बाद से देश की रफ्तार देखें तो आपको हैरानी होगी।आज हर भारतीय इस बात का गर्व कर रहा है आज हम दुनिया की छठीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। देश की आजादी के लिए कई महापुरुषों ने अपनी जान दी है, मैं उन सभी को नमन करता हूं। तमिल कवि सुब्रमण्यम भारती की कविता में कहा, भारत न सिर्फ एक महान राष्ट्र के रूप में उभरेगा, बल्कि दूसरों को भी प्रेरणा देगा। हम चाहते हैं दुनिया में भारत की साख और धाक दोनो हो। 2014 में लोगों ने सिर्फ नई सरकार नहीं बनाई है, जबकि उन्होंने देश को बनाने के लिए काम किया है। कहां से चले थे, उसे नहीं देखेंगे तो कहां पहुंचेगे उसका अंदाजा नहीं लगेगा।

Rate this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *